HomeNewsAM/NS इंडिया द्वारा गुजरात में 60,000 करोड़ रुपये की विस्तरण परियोजना की...

AM/NS इंडिया द्वारा गुजरात में 60,000 करोड़ रुपये की विस्तरण परियोजना की शुरूआत


AM/NS इंडिया ने गुजरात में सूरत हजीरा संयंत्र के विस्तरण के लिए 60,000 करोड़ रुपये के निवेश कार्यक्रम के अंतर्गत आज एक शिलान्यास समारोह आयोजित किया। इस विस्तरण के कार्यान्वित होने पर यहां उत्पादन क्षमता 9 मिलियन टन प्रति वर्ष (MTPA) से बढ़कर 15MTPA तक पहुंच जाएगी। AM/NS इंडिया, दुनिया के दो प्रमुख इस्पात उत्पादक आर्सेलरमित्तल निप्पॉन स्टील इंडिया और निप्पॉन स्टील का संयुक्त उद्यम है।

एएमएनएस के प्रकल्प विस्तरण अवसर पर दिग्गज नेता उपस्थित रहे

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गुजरात के मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल,  केंद्रीय इस्पात मंत्र ज्योतिरादित्य सिंधिया, जापान के अर्थव्यवस्था, व्यापार और उद्योग मंत्री यासुतोशी निशिमुरा,  भारत में जापान के अंतरिम चार्ज डी’एफ़ेयर्स  कुनिहिको कावाजू, गुजरात प्रदेश भाजपा अध्यक्ष एवं सांसद  सी.आर. पाटिल, सासंद एवं के‌न्द्रिय कपड़ा एवं रेलवे दर्शना जरदोश, आर्सेलरमित्तल के कार्यकारी अध्यक्ष लक्ष्मी मित्तल,  निप्पॉन स्टील कॉर्पोरेशन के अध्यक्ष और प्रतिनिधि निदेशक ईजी हाशिमोतो  निप्पॉन स्टील कॉर्पोरेशन के कार्यकारी उपाध्यक्ष और प्रतिनिधि निदेशक ताकाहिरो मोरी, आर्सेलरमित्तल निप्पॉन स्टील इंडिया के अध्यक्ष और आर्सेलरमित्तल के CEO  आदित्य मित्तल और आर्सेलरमित्तल निप्पॉन स्टील इंडिया के सीईओ दिलीप ओम्मेन ने उपस्थिति दर्ज करवाके इस समारोह की शोभा बढाई थी।  

एएमएनएस विस्तरण कार्यक्रम में उपस्थित अतिथिगण

स्थापना के तीन साल के बाद ही उत्पादन विस्तरण

AM/NS  इंडिया की स्थापना के लगभग तीन वर्ष बाद हजीरा परियोजना आई है, जिसमें अपस्ट्रीम और डाउनस्ट्रीम इस्पात उत्पादन विस्तरण शामिल होगा। इससे 60,000 से अधिक रोजगार के अवसर सृजित होंगे और यह अनेक लाभदायी पहलों के साथ नज़दीकी समुदायों को अधिक मजबूत बनाएगा। वर्ष 2019 के बाद, AM/NS India  ने अपनी मूल कंपनियों की वैश्विक सर्वश्रेष्ठ प्रथाओं को लागू करके एवं प्रौद्योगिकी और R&D में निवेश करके हजीरा संयंत्र में उत्तम प्रदर्शन करने के साथ ही अवरोध को दूर करने में मजबूत प्रगति की है। यह कंपनी अब एक आत्मनिर्भर, मुक्त नकदी प्रवाह उत्पन्न करने वाला व्यवसाय है और अपने कर्मचारियों, समुदायों एवं भारतीय इस्पात उद्योग को लंबी अवधि के मूल्य प्रदान करने के लिए तेजी से बढ़ते बाजार में बेहतर स्थिति में है।

इस विस्तरण कार्यक्रम के भागरूप, AM/NS इंडिया भारत की इस्पात निर्माण विशेषज्ञता और क्षमताओं को मजबूत करने में योगदान देना जारी रखेगा। जिससे रक्षा, ऑटोमोटिव और इंफ्रास्ट्रक्चर आदि क्षेत्रों में उपयोग के लिए स्टील्स के आयात पर भारत की निर्भरता को कम करने के लिए मूल्य वर्धित स्टील्स का उत्पादन करने के लिए डाउनस्ट्रीम सुविधाओं का विकास शामिल है। अपने स्टील्स की गुणवत्ता और विविधता में सुधार एवं वाल्यूम(मात्रा) में वृद्धि के अलावा, AM/NS इंडिया अपनी ऊर्जा आपूर्ति श्रृंखला में नवीकरणीय ऊर्जा को एकीकृत करने और विभन्न पहलों के माध्यम से इस्पात उद्योग के डीकार्बोनाइजेशन का नेतृत्व करने के प्रयासों पर भी ध्यान केंद्रित कर रहा है।

See also  પાલનપોરની જેમ સુરત શહેરના અન્ય વિસ્તારોમાં પણ મેટ્રોની આસપાસ દબાણ દુર કરવા જરૂરી

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हजीरा में शिलान्यास समारोह को संबोधित किया

वर्चुअल तरीके से समारोह को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री  नरेंद्र मोदी ने कहा कि,हजीरा संयंत्र के विस्तरण के लिए AM/NS इंडिया को मेरी शुभकामनाएं। 60,000 करोड़ रुपये के निवेश के साथ आकार ले रही इस परियोजना से भविष्य में अनेक नई संभावनाओं के द्वार खुलेंगे। यह परियोजना महत्वपूर्ण और रणनीतिक अनुप्रयोगों में देश की आयात निर्भरता को कम करने में अद्वितीय भूमिका निभाएगी।

साथ ही यह उच्च ग्रेड के स्टील के निर्माण को प्रेरित करने के अलावा गुजरात सहित पूरे भारत में रोजगार के नए अवसर पैदा करेगी। इस परियोजना के लिए कंपनी की नवीनतम तकनीक एक सीमा चिह्न साबित होगी और “मेक इन इंडिया” और “आत्मनिर्भर” भारत पहल को गति प्रदान करेगी। सर्कुलर अर्थव्यवस्था में योगदान करने के लिए हरित प्रौद्योगिकी को अत्यधिक महत्व देने के लिए मैं AM/NS इंडिया को बधाई देता हूं।

गुजरात निवेश के लिए पसंदीदा गंतव्य : मुख्यमंत्री भुपेन्द्र पटेल

गुजरात के मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल ने कहा कि, गुजरात निवेश के लिए पसंदीदा गंतव्य बना हुआ है, इससे हम गौरवान्वित महसूस कर रहे हैं। आर्सेलर मित्तल निप्पॉन स्टील इंडिया की महत्वाकांक्षी विस्तरण परियोजना राज्य में नए साल की एकदम सही शुरुआत है। गुजरात व्यापार के सरलीकरण को और भी बेहतर बनाने में अग्रणी रहा है। यह महत्वाकांक्षी विस्तरण परियोजना राज्य में रोजगार का सृजन करेगी और आर्थिक गतिविधियों को बढावा देगी। इसके अलावा यह स्थिर, व्यापार के अनुकूल नीतियों और बेजोड़ बुनियादी ढांचे के साथ एक प्रमुख वैश्विक विनिर्माण केंद्र के रूप में गुजरात की स्थिति को भी मजबूत करेगी। मैं AM/NS इंडिया को अपनी शुभकामनाएं देता हूं।”

भारत के इस्पात निर्माण में होगा महत्वपुर्ण योगदान

केंद्रीय इस्पात मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि,  “भारत के 300 मिलियन टन इस्पात निर्माण क्षमता प्राप्त करने के पथ के लिए बड़े पैमाने पर परियोजनाओं के निष्पादन में महत्वपूर्ण पूंजी, आधुनिक उत्पादन प्रौद्योगिकियों और गहन अनुभव की आवश्यकता होगी। मुझे विश्वास है कि यह सहयोग तीनों को एक साथ लाने में मदद करेगा। AM/NS इंडिया को मेरी शुभकामनाएं। हजीरा संयंत्र को भारतीय इस्पात उद्योग की उन्नति में काफी प्रगति करते हुए देखने के लिए उत्सुक हूं।”

See also  शराब छोड़ने के एक साल बाद तक नहीं पी शराब तो गाँव भर में लगाए पोस्टर | ज़रा हटके, प्रादेशिक

जापान के मंत्री भी रहे उपस्थित

जापान के अर्थव्यवस्था, व्यापार और उद्योग मंत्री (METI)  यासुतोशी निशिमुरा ने कहा कि: “क्षमता वृद्धि के अगले चरण के लिए शिलान्यास समारोह एक महत्वपूर्ण माइलस्टोन है। मैं टीम को शुभकामनाएं देता हूं। इस वर्ष जापान और भारत के बीच राजनयिक संबंधों की 70वीं वर्षगांठ है। मुझे गौरवान्तित महसूस कर रहा हुं, क्योंकि इस तरह की साझेदारी दोनों देशों के बीच संबंधों को मजबूत करती है। दुनिया के दूसरे और तीसरे सबसे बड़े स्टील उत्पादकों के रूप में, भारत और जापान को आर्थिक विकास और डीकार्बोनाइजेशन के लिए सहयोग के साथ काम करना जारी रखना चाहिए।

भारत में जापान के अंतरिम चार्ज डी’एफ़ेयर्स, कुनिहिको कावाजू ने कहा कि, “मार्च 2022 में, जापान और भारत के नेताओं ने JPY 5 ट्रिलियन के सार्वजनिक और निजी निवेश को साकार करने और आगामी पांच वर्ष के लिए जापान से भारत में वित्त पोषण के लिए अपना साझा इरादा व्यक्त किया। भारत सरकार ‘मेक इन इंडिया’, ‘आत्मनिर्भर भारत’ और ‘राष्ट्रीय इस्पात नीति-2017’ योजनाओं के तहत इस्पात क्षेत्र को मजबूत कर रही है। AM/NS इंडिया द्वारा व्यापार विस्तरण इन योजनाओं की प्रगति का पूरक होगा। जापान सरकार भारतीय इस्पात क्षेत्र के विकास में सहयोग करना जारी रखेगी।”

आत्मनिर्भर भारत के निर्माण में इस्पात देने के लिए हम गर्व : लक्ष्मी मित्तल

आर्सेलरमित्तल के कार्यकारी अध्यक्ष लक्ष्मी मित्तल ने कहा कि “हमें भारत के इस्पात निर्माण उद्योग के विकास में अपने योगदान को देने के लिए और न केवल आत्मनिर्भर भारत के लिए बल्कि एक ऐसे भारत के लिए जो दुनिया के लिए निर्माण करता है, इसके लिए इस महत्वपूर्ण मोड़ पर पहुंचने पर हमें गर्व है। यह परियोजना हाल के वर्षों में गुजरात में सबसे बड़े निवेशों में से एक होगी। हम राज्य की महत्वाकांक्षा के पैमाने और वैश्विक विनिर्माण केंद्र बनने में इसकी प्रगति की गति से प्रभावित हैं।”

विस्तरण हजीरा के लिए महत्वपुर्ण कदम : आदित्य मित्तल

आर्सेलरमित्तल निप्पॉन स्टील इंडिया के अध्यक्ष  आदित्य मित्तल ने कहा कि, “15 MTPA का विस्तरण हजीरा के लिए स्वाभाविक अगला कदम है। हमने हमेशा कहा है कि इस संयंत्र में बढ़ती भारतीय अर्थव्यवस्था में लगातार बढ़ते घरेलू इस्पात बाजार द्वारा प्रस्तुत विकास के अवसर प्राप्त करने की बड़ी संभावनाएं हैं। हजीरा में और समग्र भारत में हमारा विकास एकउत्तरदायीविकासहोगा, जिसमें हमारे स्टील को डीकार्बोनाइज करने की अटूट प्रतिबद्धता और सुरक्षा के साथ हमारे लोगों और समुदायों का कल्याण शामिल है।

See also  Ssc Examinee, Sibling Stole Jewellery To Buy Motorbikes | Surat

निप्पॉन स्टील कॉरपोरेशन के अध्यक्ष और प्रतिनिधि निदेशक ईजीहाशिमोटो ने कहा कि “AM/NS इंडिया के अगले चरण की स्मृति में इस महत्वपूर्ण समारोह का हिस्सा बनना बहुत खुशी की बात है। AM/NS इंडिया के विकास के माध्यम से भारत के विकास में योगदान देने के लिए निप्पॉन स्टील प्रतिबद्ध है।

निप्पॉन स्टील कॉरपोरेशन के कार्यकारी उपाध्यक्ष और प्रतिनिधि निदेशक ताकाहिरोमोरी ने कहा कि “आज का महत्वपूर्ण समारोह भारत में अग्रणी और पसंदीदा स्टील निर्माता बनने की अपनी यात्रा में AM/NS इंडिया के परिवर्तन का प्रतीक है। हजीरा स्टील मिल में अपस्ट्रीम और हॉट-रोलिंग सुविधाओं के इस नए निर्माण और क्षमता विस्तार के साथ हमारा लक्ष्य भारत में स्टील की बढ़ती मांग को पूरा करना है।”

आर्सेलर मित्तल निप्पॉन स्टील इंडिया के CEO दिलीप ओम्मेन ने कहा कि,“संयंत्र का विस्तार देश की इस्पात विकास योजना में हमारे योगदान को बढ़ाने के संकल्प को आगे बढ़ाएगा, जो न केवल आत्मानिर्भर भारत पहल को बढ़ावा देता है बल्कि भारत को वैश्विक विनिर्माण केंद्र के रूप में भी देखता है। अत्याधुनिक सुविधाओं के साथ, यह परियोजना हमें सरकार के आयात प्रतिस्थापन नीति लक्ष्यों के साथ संरेखित करते हुए उच्च ग्रेड मूल्य वर्धित स्टील समाधान तैयार करने में सक्षम बनाएगी”।

 

स्थापित की जानेवाली अत्याधुनिकसुविधाएं ‌इस प्रकार होगी

• आयरन (लोहा) बनाने की प्रक्रिया: ब्लास्टफर्नेस, सिन्टरिंग फसिलिटी(सुविधा) और कोकफर्नेस

• स्टील बनाने की प्रक्रिया:  बुनियादी ऑक्सीजन भट्टियां और निरंतर कास्टिंग मशीनें

• हॉटप्रोसेस (गर्म करने की प्रक्रिया): हॉट स्ट्रिपमिल

AM/NS इंडिया को अक्टूबर-2022 में, विस्तृत पर्यावरणीय प्रभाव आकलन के बाद केंद्रीय पर्यावरण,वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय से हजीरा विस्तरण परियोजना के लिए पर्यावरण मंजूरी मिली थी। कंपनी ने आगामी दशक में अपनी राष्ट्रीय क्षमता को 30 MTPA  तक बढ़ाने की लंबी अवधि की महत्वाकांक्षा निर्धारित की है, जो सरकार की राष्ट्रीय इस्पात नीति का समर्थन करती है। जिसमें वर्ष 2030 तक घरेलू क्षमता को दोगुना कर 300 MTPA करने की परिकल्पना की गई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read