HomeNewsसूरत : 500 से ज्यादा रिक्शों पर नशे के खिलाफ जागरूकता फैलाने...

सूरत : 500 से ज्यादा रिक्शों पर नशे के खिलाफ जागरूकता फैलाने के बैनर लगाए


सूरत शहर की पुलिस पिछले दो साल से नशे के खिलाफ अभियान चला रही है। नशे के बढ़ते प्रदूषण को रोकने और लोगों को इसके प्रति जागरूक करने के लिए पुलिस ने एक नया प्रयोग किया है। पुलिस ने सार्वजनिक कार्यक्रमों में लोगों को समझाने की कोशिश के बाद शहर में चलने वाले रिक्शों पर नशा जागरूकता पोस्टर लगाकर नागरिकों को इसके खिलाफ जागरूक करने का प्रयास किया है।

रिक्शा पर लगे नशा जागरूकता पोस्टर

सूरत में पिछले दो साल से नशामुक्ति अभियान चल रहा है। आज पूरे गुजरात में नशे के खिलाफ पुलिस का विशेष अभियान चल रहा है। लोगों को ड्रग्स की तरफ जाने से रोकने और लोगों में जागरुकता बढ़ाने के लिए पुलिस ने एक नया प्रयोग किया है। पुलिस द्वारा नशे के खिलाफ अभियान में शहर के 500 से अधिक रिक्शा चालकों को जोड़ा गया है। 500 से अधिक रिक्शों पर नशा विरोधी जागरूकता नारों वाले पोस्टर लगाए गए हैं। ये सभी रिक्शे शहर के अलग-अलग इलाकों में घूमेंगे और लोगों को नशे के खिलाफ जागरूक करने की कोशिश करेंगे।

See also  सूरत :  मनपा अब इस मशीन से आवारा पशुओं की आवाजाही पर नजर रखेगी

स्कूल वैन और बसों पर भी बैनर लगाए जाएंगे

युवा वर्ग नशे की ओर अधिक आकर्षित हो रहा है। युवा नशे के आदी होते जा रहे हैं। स्कूल के समय से ही युवाओं में जागरूकता पैदा की जा सके इस लिए पुलिस ने विभिन्न स्कूलों की स्कूल वैन और स्कूल बसों पर पोस्टर लगाना शुरू कर दिया है। स्कूल वैन और बसें ऐसे माध्यम हैं, जिनसे युवाओं और उनके अभिभावकों तक नशा जागरूकता का संदेश पहुंच सकता है। इसलिए पुलिस ने ऐसे माध्यमों को अपने साथ जोड़ने के लिए और प्रयास किए हैं।

स्कूल-कॉलेजों में जागरूकता कार्यक्रम 

सूरत शहर के एसओजी डीसीपी राजदीपसिंह नकुम ने कहा कि गुजरात राज्य के गृह विभाग और सूरत शहर के पुलिस आयुक्त द्वारा ड्रग्स के खिलाफ एक विशेष अभियान चलाया जा रहा है। जिसके तहत गुजरात के किसी भी कोने से नशीले पदार्थों को प्रवेश करने से रोकने का प्रयास किया जा रहा है। साथ ही लोगों को नशीले पदार्थों का सेवन न करने के लिए जागरूक भी किया जा रहा है। इस वजह से अगर लोग नशा नहीं खरीदते हैं और जागरूकता पैदा की जाती है तो बेचने वालों की भी कमर अपने आप टूट जाएगी। पुलिस द्वारा स्कूल-कॉलेजों में जाकर जागरूकता कार्यक्रम आयोजित किया जाता है।

See also  9 વર્ષની બાળાને રૃમમાં બોલાવી જાતિય હુમલો કરનાર યુવાનને 3 વર્ષની સખ્તકેદ

पोस्टर में नशे के खिलाफ जागरूकता स्लोगन लिखे

पुलिस ने रिक्शा पर विभिन्न नशा विरोधी जागरूकता नारों वाले पोस्टर लगाए हैं। शहर के रिक्शा पर ‘से नो टू ड्रग’, ‘नशा चाहे जैसा हो, होता है बेकार’, ‘बॉडी ब्रेकिंग इलनेस लाता, कर देता लचर – से नो टू ड्रग’ जैसे नारों वाले पोस्टर लगे हुए हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read