HomeNewsसूरत :  नगर निगम का नया प्रयोग, सूखे और गीले कचरे के...

सूरत :  नगर निगम का नया प्रयोग, सूखे और गीले कचरे के बारे में जागरूकता पैदा करने की कोशिश 


नगर निगम स्वच्छता सर्वेक्षण में सूरत को पूरे देश में पहला स्थान दिलाने के लिए जी तोड़ मेहनत कर रहा है। वहीं दूसरी ओर शहर के बच्चों को साफ-सफाई व स्वच्छता के प्रति जागरूक करने के लिए नगर निगम सरकार ने एक नया प्रयोग शुरू किया है। मनपा ने शहर के स्कूलों और कॉलेजों में जाकर छात्रों को नुक्कड़ नाटक के माध्यम से सूखे और गीले कचरे के पृथक्करण और इसके महत्व के बारे में जानकारी दी जा रही है। 

नगर पालिका के लिए कूड़ा निस्तारण एक बड़ा सवाल है

सूरत नगर निगम द्वारा कचरा संग्रह और निपटान सबसे बड़ी समस्या बनती जा रही है। एक तरफ जहां सार्वजनिक रूप से गंदगी करने वाले लोगों को पकड़ा जा रहा है और जुर्माना व जागरूक किया जा रहा है। वहीं सीसीटीवी कैमरों से भी नजर रखी जा रही है। दूसरी ओर नगर पालिका स्कूल जाने वाले बच्चों में स्वच्छता के प्रति संस्कार पैदा करने के लिए सकारात्मक सोच के साथ आगे बढ़ रही है। सूखे और गीले कचरे को कैसे अलग किया जाए और नगर निगम द्वारा स्कूलों में पढ़ने वाले छात्रों के लिए इसका क्या महत्व है यह समझाना शुरू कर दिया है। इसके लिए शहर के विभिन्न स्कूलों और कॉलेजों में जाकर छात्रों द्वारा नुक्कड़ नाटकों का प्रदर्शन कर छात्रों को जागरूक किया जा रहा है।

See also  सूरत : रात में अनजान शख्स बतियाने के संदेह में गुस्साए पति ने पत्नी को मौत के घाट उतार दिया!

स्कूलों और कॉलेजों में भी स्वच्छता के प्रति जागरूकता पैदा करना जरूरी 

उप स्वास्थ्य अधिकारी केतन गरासिया ने बताया कि सूखा कचरा और गीला कचरा अलग क्यों और क्या है इसका महत्व इस पर जानकारी दी। इसके लिए स्कूल-कॉलेजों में जाकर विद्यार्थियों को  नुक्कड़ नाटक के माध्यम से विद्यार्थियों को जागरूक किया जा रहा है। ताकि छात्र-छात्राएं घर जाकर अभिभावकों के साथ डोर-टू-डोर ठेले में अलग-अलग सूखा और गीला कचरा दे सकें। आने वाले दिनों में कई स्कूलों और कॉलेजों में इस तरह के जागरूकता कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read