HomeNewsब्रिटिश और नाटो सैनिकों को क्रिसमस का भोजन परोसते नजर आए ब्रिटेन...

ब्रिटिश और नाटो सैनिकों को क्रिसमस का भोजन परोसते नजर आए ब्रिटेन के प्रधानमंत्री ऋषि सुनक


ब्रिटेन के प्रधानमंत्री ऋषि सुनक प्रधानमंत्री के पद पर आने से के बाद से लगातार चर्चा में हैं. अब उन्होंने एस्टोनिया में तापा सैन्य अड्डे पर ब्रिटिश और नाटो सैनिकों के साथ क्रिसमस रात्रि भोज किया। इतना ही नहीं एस्टोनिया में तापा सैन्य अड्डे पर, ब्रिटिश प्रधान मंत्री ऋषि सुनक ने ब्रिटिश और नाटो सैनिकों को क्रिसमस भोजन परोसा। साथ ही उन्होंने वीरों की वीरता और बलिदान की सराहना की। बता दें कि ब्रिटेन के प्रधानमंत्री ने लातविया की राजधानी रीगा में संयुक्त अभियान बल (जेईएफ) शिखर सम्मेलन में अपने नॉर्डिक, बाल्टिक और डच समकक्षों से मुलाकात के बाद एस्टोनिया की यात्रा की।

See also  खालिस्तान समर्थकों की गतिविधियों के खिलाफ ब्रिटेन के समीक्षा आयोग ने चेताया | विश्व

सेना के सहयोग के लिए किया धन्यवाद

एक जानकारी के अनुसार, ऋषि सुनक ने माफी वाले लहजे के साथ सैनिकों को धन्यवाद देते हुए क्रिसमस में घर पर अपने परिवारों के साथ उत्सव ना मना पाने के लिए मांफी मांगी. साथ ही रूस-युक्रेन के बीच चल रहे युद्ध के दौरान उनके “बलिदान” और “असाधारण” सेवा के लिए उनकी सराहना की। इस बारे में उन्होंने कहा “आप जो करते हैं वह असाधारण है। मुझे पता है कि आप क्रिसमस पर अपने परिवार और दोस्तों के साथ रहने को याद कर रहे हैं, और मुझे इसके लिए खेद है, लेकिन मैं आपके बलिदान की सराहना करता हूं.,”

See also  गुजरात  : 15वीं विधानसभा का सत्र 23 फरवरी से शुरू होगा, 24 को बजट पेश किया जाएगा

उन्होंने आगे कह इस वर्ष, हमने अपने महाद्वीप में पूर्ण पैमाने पर युद्ध देखा है, और मुझे अपने सशस्त्र बलों के निःस्वार्थ समर्पण और बहादुरी पर बहुत गर्व है, जिन्होंने यूके और हमारे सहयोगियों को सुरक्षित रखने के लिए उस बड़े खतरे का जवाब दिया.’

एक शिखर सम्मेलन में की उत्तरी यूरोपीय देशों के नेताओं से मुलाकात

गौरतलब है कि पूरे एस्टोनिया और पोलैंड में ऑपरेशन कैब्रिट के हिस्से के रूप में, ब्रिटिश सैन्य सेवाओं के 1,000 से अधिक सदस्यों को तैनात किया गया है। वहीं इस साल की शुरुआत में यूक्रेन पर रूसी सैनिकों के आक्रमण के दौरान ब्रिटेन ने एस्टोनिया में अपनी उपस्थिति दोगुनी बढ़ा दी। साथ ही बताते चले कि सनक बाल्टिक राज्यों की यात्रा पर हैं, जिसे उन्होंने सोमवार को रीगा, लातविया से शुरू किया, जहां उन्होंने उत्तरी यूरोपीय देशों के नेताओं से संयुक्त अभियान बल के एक शिखर सम्मेलन में यूक्रेन के समर्थन में दृढ़ता से खड़े होने का आह्वान किया।

See also  'मन की बात' ने सकारात्मकता व जनभागीदारी को दिया उत्सव का रूप : प्रधानमंत्री मोदी | भारत

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read