HomeNewsप्रदेश में आईपीएस अधिकारियों का सामुहिक तबादला

प्रदेश में आईपीएस अधिकारियों का सामुहिक तबादला


गुजरात में चुनाव से पहले अधिकारियों के तबादले का सिलसिला शुरू हो गया है। फिर आज दिवाली के दिन 6 रेंज के 22 जिलों समेत अन्य 17 आईपीएस अधिकारियों का तबादला कर दिया गया है। 6 श्रेणियों में सूरत, वडोदरा, पंचमहल, भावनगर, जूनागढ़ और राजकोट रेन्ज  शामिल हैं। तो इंटेलिजेंस, क्राइम और विभिन्न शहरों के कुल 17 आईपीएस अधिकारियों का भी तबादला कर दिया गया है।

डीवाईएसपी, डीईओ-डीपीईओ का हाल ही में तबादला किया गया था

हाल ही में राज्य में 76 उपाधीक्षकों का तबादला किया गया था। इसके अलावा 24 डीईओ-डीपीईओ का तबादला किया गया। लेकिन केंद्रीय चुनाव आयोग ने IAS और IPS के तबादले को लेकर राज्य सरकार को नोटिस जारी किया है। इसके अलावा मुख्य सचिव और राज्य के पुलिस प्रमुख को भी तबादलों के बारे में जवाब देने को कहा गया है। आज एक साथ 17 आईपीएस का तबादला कर दिया गया है। राजकुमार को रेलवे में डेप्युटी जनरल ऑफ पुलिस डीजीपी बनाया गया है। साथ ही जेसीपी अजय चौधरी का तबादला स्पेशल ब्रांच में कर दिया गया है।

22 जिलों पर सरकार की नजर

राज्य में लंबे समय से आईपीएस अधिकारियों का बेसब्री से इंतजार था। फिर सरकार ने दिवाली के दिन ही तबादला कर दिया है। सरकार की नजर में राज्य के 22 जिले हैं। वहीं, 6 रेंज अधिकारियों के तबादले का भी समन्वय किया गया है। जिसमें पीयूष पटेल को सूरत रेंज में डीआईजी के पद पर तैनात किया गया है, इस रेंज के डीआईजी में सूरत, वलसाड, डांग, नवसारी और तापी जिले शामिल हैं। संदीप सिंह को वडोदरा रेंज में डीआईजी बनाया गया है, जिसमें वडोदरा ग्रामीण, भरूच, छोटा उदयपुर और नर्मदा शामिल हैं। पंचमहल, महिसागर और दाहोद पंचमहल रेंज के डीआईजी के रूप में आते हैं। गौतम परमार को भावनगर रेंज का डीआईजी बनाया गया है। भावनगर, बोटाद और अमरेली जिले इनके नियंत्रण में आते हैं। जूनागढ़ रेंज के डीआईजी मयंक सिंह चावड़ा को बनाया गया है। इस श्रेणी में जूनागढ़, पोरबंदर और गिर सोमनाथ जिले शामिल हैं। जबकि राजकोट रेंज के डीआईजी अशोक यादव को बनाया गया है। राजकोट रेंज में राजकोट ग्रामीण, मोरबी, देवभूमि द्वारका और जामनगर जिले शामिल हैं।

See also  અડાજણ પોલીસ સ્ટેશનથી માંડ 100 મીટરના અંત્તરે સ્નેચરો ત્રાટકયા

अहमदाबाद शहर में 3 अधिकारियों का तबादला

गुजरात में काफी समय से चुनावी बदलाव की तैयारी की जा रही थी। विशेष रूप से वरिष्ठ आईपीएस अधिकारियों का भी फेरबदल हुआ क्योंकि सरकार इस बात को लेकर असमंजस में थी कि किसे कहां पोस्ट किया जाए। इसलिए आज एक साथ 17 आईपीएस का तबादला कर दिया गया है। इसमें अहमदाबाद के सेक्टर वन टू समेत भावनगर रेंज, राजकोट रेंज और सूरत रेंज के अधिकारियों का तबादला किया गया है। अहमदाबाद में नीरज बडगुजर को सेक्टर वन और भराड़ा को सेक्टर 2 में नियुक्त किया गया है। अहमदाबाद शहर में तीन अधिकारियों का तबादला कर दिया गया है।

See also  two prisoners caught who ran away from hospital | जेल से भागने के लिए अस्पताल का सहारा: दो कैदियों ने पुलिस को दिया चकमा, एक वडोदरा तो दूसरा ग्वालियर से हुआ गिरफ्तार - Gujarat News

76 उपाधीक्षकों का पूर्णत: तबादला किया गया

गुजरात में चुनाव से पहले विभिन्न विभागों में उच्च अधिकारियों का तबादला किया जा रहा है. हाल ही में राज्य में 76 उपाधीक्षकों का तबादला किया गया था। इसके अलावा 24 मामलातदार स्तर के अधिकारियों का भी तबादला करने का आदेश दिया गया है। साथ ही कुछ दिन पहले राजस्व विभाग ने 7 डिप्टी कलेक्टरों के तबादले के आदेश दिए थे। साथ ही 42 दिन के कलेक्टरों का तबादला कर 26 मामलातदारों को पदोन्नत किया गया। इसके अलावा गुजरात में चुनाव से पहले हाल ही में 23 आईएएस अधिकारियों का तबादला भी किया गया है।

गुजरात के 24 डीईओ-डीपीईओ का तबादला

गुजरात में गृह विभाग ने हाल ही में 76 उपाधीक्षकों के तबादले के आदेश दिए हैं। इसके अलावा, 24 मामलातदार स्तर के अधिकारियों को भी हाल ही में स्थानांतरित करने का आदेश दिया गया था। फिर विभाग में एक और तबादला आदेश दिया गया है। चुनाव से पहले राज्य के 24 डीईओ-डीपीईओ का तबादला किया जा चुका है. जिसमें अहमदाबाद को डेढ़ साल बाद नया डीईओ मिला है। रोहित चौधरी को डेढ़ साल बाद अहमदाबाद में नया डीईओ नियुक्त किया गया है। जबकि अहमदाबाद ग्रामीण डीईओ राकेश व्यास का तबादला वडोदरा कर दिया गया है।

See also  टी-20 विश्व कप : पैट कमिंस ने लगातार दूसरे मैच में ली हैट्रिक, रचा इतिहास | Loktej क्रिकेट News

चुनाव आयोग ने सरकार को दिया नोटिस

केंद्रीय चुनाव आयोग ने राज्य सरकार को एक ही जगह पर लंबे समय से यानी 3 साल से अधिक समय से काम कर रहे अधिकारियों का तबादला करने का आदेश दिया था. लेकिन राज्य सरकार ने इस आदेश से आंखें मूंद लीं. जो आईपीएस अधिकारी एक ही स्थान पर हैं, उन्हें बदला जाना चाहिए। इसके बाद चुनाव आयोग ने राज्य सरकार को सितंबर के अंत तक अपनी रिपोर्ट सौंपने का आदेश दिया। लेकिन राज्य सरकार किन्हीं कारणों से इस प्रक्रिया को अंजाम नहीं दे रही थी। इस संबंध में चुनाव आयोग ने रिमाइंडर भी दिया था। आखिरकार दो दिन पहले चुनाव आयोग ने डीजीपी और राज्य के मुख्य सचिव को तलब कर पूछा कि आदेश का पालन क्यों नहीं किया जा रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read