HomeNewsनवरात्र से ठीक पहले बहुचराजी मंदिर के महंत की आत्महत्या

नवरात्र से ठीक पहले बहुचराजी मंदिर के महंत की आत्महत्या


पुजारी ने फांसी लगा ली, भक्तों का कहना है कि उन्होंने आत्महत्या की यह विश्वास नही हो रहा

नवरात्र के कुछ ही दिन शेष रह गए हैं, सूरत के कतारगाम के वेड रोड इलाके में बहुचराजी मंदिर के महंत ने आत्महत्या कर ली है। मंदिर में पिछले 25 वर्षों से सेवा पूजा कर रहे शंभुनाथ नाम के महाराज ने रात में आत्महत्या कर ली। फांसी लगाकर आत्महत्या करने की खबर सुनकर भक्तों में शोक की लहर दौड़ गई है।

महंत नेपाल के मूल निवासी थे, 25 वर्षों से सेवा पूजा कर रहे थे

मूल रूप से नेपाल के रहने वाले शंभू महाराज पिछले 25 वर्षों से वेडरोड के श्री नानी बहुचराजी मंदिर में सेवा पूजा कर रहे थे। मंदिर में रहकर माताजी से प्रार्थना करते हुए महंत ने नवरात्रि से पहले माताजी के मंदिर परिसर में आत्महत्या कर ली। महंत की मौत की खबर सुनकर मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया। फिलहाल पुलिस आत्महत्या के मामले में आगे की जांच कर रही है। फांसी लगाकर आत्महत्या करने वाले महंत की खबर सुनते ही भक्तों में शोक फैल गया।

See also  गुजरात : एमएलए क्रिकेट लीग का प्रारंभ, अल्पेश ठाकोर की कप्तानी में खेलेंगे सीएम भूपेंद्र पटेल | गुजरात

लोगों को विश्वास नहीं हो रहा है कि महंत ने आत्महत्या की है

निताबेन नाम की एक भक्त, जो मंदिर में नियमित रूप से आती थी, उसने कहा कि महाराज प्रणमी धर्म के स्नातक थे। खूब पूजा करते थे, 25 साल तक सेवा करते रहे। ऐसा लगता है कि कुछ तो अजीब हुआ है। हमें आत्महत्या के पीछे का कारण नहीं पता। महाराज की सेवा अटूट रही। वह नेपाल के मूल निवासी थे और कई सेवा कार्य कर रहे थे। कुछ समझ नहीं आता। यहां के लोग उनके स्वभाव से खुश थे। हमें विश्वास नहीं हो रहा है कि उन्होंने खुद यह कदम उठाया है। उनका स्वभाव ऐसा नहीं था कि उन्होंने आत्महत्या कर ली, उनके पास सेवा के अलावा और कोई गतिविधि नहीं थी। वे पिछले 25 वर्षों से लगातार सेवा कर रहे थे।

See also  कर्नाटक : जब अचानक व्यस्त सड़क पर होने लगी पैसों की बारिश

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read