HomeNewsदो साल की प्रतीक्षा आज समाप्त, खेलय्या स्केटिंग गरबा खेलने के लिए...

दो साल की प्रतीक्षा आज समाप्त, खेलय्या स्केटिंग गरबा खेलने के लिए उत्साही


तीन ताली, दोढिया, केडिया या घूमर जैसे सभी गरबा स्केटिंग के साथ

दो साल के बाद गुजरात का सबसे लोकप्रिय त्योहार नवरात्रि फिर से खिलाडिय़ों से भरा हुआ है जो मस्ती के लिए उत्सुक हैं। खिलाड़ी प्रमुख आयोजनों में खेलने के अंतिम घंटों की गिनती कर रहे हैं। दो साल के कोरोना के कठिन समय के बादखेलने का मौका मिला। इस साल के लिए विशेष खास तैयारियां की गई हैं। सूरत में एक निजी नृत्य अकादमी ने खिलाडिय़ों को स्के टींग पर गरबा खेलना सिखाया है और अब वे बड़े आयोजनों में खेलने के लिए उत्सुक हैं। सभी गरबा जैसे तीन ताली, दोढिया, केडिया या घूमर स्केटिंग पर खेलना संभव बना दिया है।

गरबा, दोढिया और स्केटिंग पर नए स्टेप के साथ गरबा के लिए तैयार

मां अंबाजी की पूजा का त्योहार आज से शुरू हो गया है। नवरात्रि शुरू हो गई है और खिलाडिय़ों को जिस समय का इंतजार है, उसके बस घंटे गिन रहे हैं। आज नवली नवरात्रि से पहले गरबा खेलय्याओं का थनगनाट शुरू होगा। खिलाड़ी दो साल से बड़े आयोजनों में भाग लेने के लिए बेताब थे, कोरोना के कारण प्रमुख आयोजनों के बंद होने के कारण वे सार्वजनिक कार्यक्रमों में भाग नहीं ले सके, लेकिन सरकार ने इस साल अनुमति दी है और बड़े आयोजन भी हुए हैं। फिर इस बार खिलाडिय़ों में एक अलग ही उत्साह और उमंग देखने को मिल रहा है। नए कदम सीखेने की उन्होंने पहले से तैयारी कर ली है।  

See also  AAPમાંથી કનુ ગેડિયા અને રાજેશ મોરડીયાની હકાલપટ્ટી

तीन ताली, दोढिया, गरबा, केडिया या घूमर सभी स्केटिंग पर संभव हुए

सामान्य परिस्थितियों में खेले जाने वाले गरबा जैसे सामान्य गरबा, दोढिया, केडिया, तीन ताली या घूमर के विशिष्ट चरण होते हैं और उन्हें सीखना पड़ता है। अब तक हमने इस तरह के गरबा लोगों को अपने ही अनोखे अंदाज में खेलते देखा है, लेकिन यह सोचना भी नामुमकिन सा लग रहा था कि स्केटिंग पर भी ये सभी कदम संभव होंगे, लेकिन सूरत के खिलाडिय़ों के एक ग्रुप ने इसे संभव बनाया है। सूरत के घोडदोड क्षेत्र में स्थित एमडीए खेलेया ग्रुप ने अथक प्रयासों से स्केटिंग पर गरबा के सभी चरणों को सीखा है और इस साल विभिन्न आयोजनों में स्केटिंग पर गरबा खेलने का फैसला किया है। पूर्ण पारंपरिक पोशाक में खिलाड़ी आगे, पीछे और एक साथ स्केटिंग कर रहे हैं। खिलाडिय़ों की इस तरह से खेलने की जिद बेहद हैरान करने वाली है। 

See also  થર્ટી ફર્સ્ટની રાતે સુરતમાં દારૃ પીને ફરતા 431 લોકો પોલીસને ઝપટમાં

स्केटिंग पर गरबा लंबी मेहनत के बाद मिली कामयाबी : गरबा ट्रेनर मीना मोदी

खिलाडिय़ों को स्केटिंग पर घुमाना सिखाने वाली मीना मोदी ने कहा कि गरबा सीखने से पहले स्केटिंग सीखनी पड़ती है। यह एक अभ्यास नहीं है जिसे कुछ ही महीनों में महारत हासिल किया जा सकता है। इसे सीखने में कई साल लग जाते हैं। ऐसा करना बहुत मुश्किल है। स्केटिंग के चरखे के साथ रुकना, एक साथ कदम उठाना, एक साथ घूमना, संगीत के साथ और पारंपरिक पोशाक पहनना बहुत मुश्किल है। सीखने में काफी समय लगता है। कोरोना के दो साल बाद नवरात्रि के बड़े प्लान बने हैं। डांस एकेडमी के डांसर्स को इस तरह के इनोवेटिव गरबा सिखाने के लिए इस साल बड़े इवेंट्स में स्केटिंग के साथ-साथ गरबा भी खेलने का फैसला किया गया है। अब खिलाड़ी भी ऐसे ही गरबा खेलने के लिए घंटे का इंतजार कर रहे हैं।

See also  દક્ષિણ ગુજરાતની સુગરોમાં 93 ટકા બળેલી શેરડીના પિલાણથી કરોડોનું નુકશાન

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read