HomeNewsतापी इंजीनियरिंग कॉलेज में जीपीसीबी सूरत और ग्रीनमैन विरल देसाई द्वारा पर्यावरण...

तापी इंजीनियरिंग कॉलेज में जीपीसीबी सूरत और ग्रीनमैन विरल देसाई द्वारा पर्यावरण पर सेमिनार आयोजित


ग्रीनमैन के नाम से मशहूर उद्योगपति विरल देसाई द्वारा चलाया गया राष्ट्रव्यापी पर्यावरण आंदोलन ‘ सत्याग्रह अगेंस्ट पॉल्यूशन एन्ड क्लाइमेंट चेंज मूवमेंट’

ग्रीनमैन के नाम से मशहूर उद्योगपति विरल देसाई द्वारा चलाया गया राष्ट्रव्यापी पर्यावरण आंदोलन ‘ सत्याग्रह अगेंस्ट पॉल्यूशन एन्ड क्लाइमेंट चेंज मूवमेंट’ तापी डिप्लोमा इंजीनियरिंग कॉलेज में आयोजित किया गया था। जिसके तहत इंजीनियरिंग छात्रों के साथ क्लाइमेंट एक्शन और पर्यावरण संरक्षण पर चर्चा की गई और उन्हें ‘पर्यावरण योद्धा’ बनाया गया।

जीपीसीबी सूरत के क्षेत्रीय प्रमुख डॉ. जिज्ञासा ओझा भी विशेष रूप से उपस्थित

इस अभियान के तहत जीपीसीबी सूरत के क्षेत्रीय प्रमुख डॉ. जिज्ञासा ओझा भी विशेष रूप से उपस्थित थे और उन्होंने छात्रों से बातचीत की। इस संबंध में विरल देसाई ने कहा कि’ सत्याग्रह अगेंस्ट पॉल्यूशन एन्ड क्लाइमेंट चेंज मूवमेंट’ के माध्यम से हम जन-जन तक पहुंचना चाहते हैं और प्रदूषण के खिलाफ इस लड़ाई में हमें युवाओं और छात्रों की सबसे ज्यादा जरूरत है। एक तरफ जब हम हर दिन कई क्लाइमेंट क्रायसिस के शिकार हो रहे हैं, हमारे लिए इस दिशा में ठोस काम करने की सबसे ज्यादा जरूरत है।’

See also  13 વર્ષની સગીરાને પ્રેમમાં ફસાવી ગર્ભવતી બનાવનાર યુવકને વીસ વર્ષની સખત કેદ

 डॉ. जिग्नाशा ओझा ने यह भी कहा, ‘हमें पिछले अनुभवों से सीखना होगा और अपने वर्तमान में पर्यावरण संरक्षण की दिशा में सकारात्मक कदम उठाने होंगे और इस तरह अपने भविष्य को बेहतर बनाना होगा।’

हार्ट्स एट वर्क फाउंडेशन ने भी सत्याग्रह मूवमेन्ट को समर्थन दिया

गौरतलब है कि गुजरात प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड, सूरत भी हार्ट्स एट वर्क फाउंडेशन द्वारा शुरू किए गए ”सत्याग्रह अगेंस्ट पॉल्यूशन एन्ड क्लाइमेंट चेंज मूवमेंट’  में आधिकारिक रूप से शामिल हो गया है, जिसके तहत दोनों संगठनों ने मिलकर  एक लाख से अधिक छात्रों और युवाओं तक पर्यावरण संरक्षण का संदेश पहुंचाने और दो लाख से अधिक पेड़ लगाने का संकल्प लिया  है। इस अभियान के तहत अब तक छह हजार से अधिक छात्रों को ‘पर्यावरण योद्धा’ बनाया जा चुका है।

See also  સુરતમાં પોલીસની પહેલ, ચાઈનીઝ દોરી અને વ્યાજખોર સામે જાગૃતિનો પ્રયાસ

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read