HomeNewsजिद्दी तत्वों के दबाव से गांधी कॉलेज के पास सड़क का पैचवर्क...

जिद्दी तत्वों के दबाव से गांधी कॉलेज के पास सड़क का पैचवर्क भी नहीं हो पा रहा है


मजुरागेट से गांधी कॉलेज तक बिस्मर सर्विस रोड ,छात्रों को आने-जाने में हो रही परेशानी

सूरत नगर निगम के रिंग रोड मजुरागेट क्षेत्र में सड़क पर जिद्दी तत्वों का कब्जा है, इसलिए नगर प्रशासन सड़क पर कारपेटिंग का काम भी नहीं कर पा रहा है। जब फुटपाथों पर कब्जा कर लिया जाता है, तो लोग हिल भी नहीं सकते। यदि कोई वाहन दुर्घटनावश शाम के समय इस सर्विस रोड में प्रवेश कर जाता है तो दबाव के कारण सड़क पार करना मुश्किल हो जाता है। इस सड़क की मरम्मत की मांग की गई है लेकिन क्या दबाव के कारण इस सड़क पर कालीन बिछाया जाएगा यह एक बड़ा सवाल है।

See also  वेड रोड पर एक मंदिर के पुजारी ने की आत्महत्या, कारण अज्ञात

मजुरागेट से गांधी कॉलेज गेट तक सड़क पर दबाव की स्थिति

सूरत नगर निगम ने रिंग रोड मजुरागेट क्षेत्र में दबाव कम करने के लिए कृषिमंगल रोड पर स्ट्रीट पार्किंग की घोषणा की है। इस ऑपरेशन के लिए नगर पालिका को सालाना पांच लाख रुपये की रॉयल्टी मिलेगी। लेकिन मजुरागेट से गांधी कॉलेज गेट तक सड़क पर दबाव की स्थिति बनी रहेगी। यहा पर दबाण करने वालों का उपद्रव इतना है कि नगर निगम की व्यवस्था सड़क की मरम्मत तक नहीं कर पाती है।

नगर निगम दबाण करने वालों में बौनी साबित हो रही है

पिछले कई बार इस सर्विस रोड पर कालीन नहीं बनने के कारण गेट के सामने गड्ढे हो गए हैं। इन गड्ढों को फिर से कार्पेट करने के लिए नगर निगम प्रशासन को लिखित प्रतिवेदन दिया है। नगर निगम भी इस सड़क को रीकार्पेट करने को तैयार है। लेकिन नगर निगम व्यवस्था दबाण करने वालों में बौनी साबित हो रही है। कॉलेज के छात्र और पैदल यात्री शिकार हो रहे हैं क्योंकि नगर पालिका इस दबाव को स्थायी रूप से दूर नहीं कर सकती है। इस दबाव को स्थायी रूप से हटाने और मजुरागेट से गांधी कॉलेज की ओर जाने वाले सर्विस रोड को यातायात सुगम बनाने के लिए खोलने की मांग की जा रही है। इस फुटपाथ पर दबाव के कारण लोगों को जान जोखिम में डालकर सड़क पर चलना पड़ रहा है। इस स्थिति के बावजूद नगर पालिका व्यवस्था हठधर्मी तत्वों के काबू में आ रही है और दबाव को दूर नहीं कर पा रही है।

See also  સુરતની ભગવાન મહાવીર કોલેજમાં લવ જેહાદ મુદ્દે મારામારી: VHPએ કહ્યું-વિધર્મીઓ ષડયંત્ર રચતા હતા જેથી માર માર્યો

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read