HomeNewsचेम्बर द्वारा 'दुबई में कंपनी निर्माण' पर एक संगोष्ठी आयोजित की गई

चेम्बर द्वारा ‘दुबई में कंपनी निर्माण’ पर एक संगोष्ठी आयोजित की गई


चार्टर्ड अकाउंटेंट जशुक शाह ने विशेषज्ञ वक्ता के रूप में दुबई में कंपनी के गठन के बारे में महत्वपूर्ण मार्गदर्शन दिया

दक्षिण गुजरात चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री द्वारा समुध्दि नानपुरा सूरत में  ‘दुबई में कंपनी निर्माण’ पर एक संगोष्ठी का आयोजन किया गया। जिसमें चार्टर्ड अकाउंटेंट जशुक शाह ने विशेषज्ञ वक्ता के रूप में दुबई में कंपनी के गठन के बारे में महत्वपूर्ण मार्गदर्शन दिया।

प्रवक्ता सीए जशुक शाह ने कहा कि जब सूरत की हीरा कंपनियां दुनिया को कच्चे और पॉलिश किए गए हीरे निर्यात करती हैं, तो दुबई से वैश्विक स्तर पर अन्य देशों में निर्यात करना आसान होता है। हीरे के बाद अब कपड़ा उद्योग के पास दुबई में कारोबार के कई अवसर हैं। दुबई में दुबई फैशन और दुबई टेक्सटाइल विलेज का उदय हुआ है। दक्षिण गुजरात चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री ने भी टेक्सास के साथ एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए हैं।

See also  सूरत : नवनिर्मित पुल से गिरा रोड रोलर, ओपरेटर की मौत | सूरत

दुबई से विश्व के सभी देशों में आसानी निर्यात 

अगर दुबई में कपड़ा, हीरा आदि का कारोबार शुरू किया जाता है, तो उत्पाद को दुनिया में कहीं भी आसानी से निर्यात किया जा सकता है। दुबई से निर्यात के लिए बंदरगाह की सुविधा बहुत अच्छी है। वहां से इसे सीधे एशियाई बाजार में निर्यात किया जा सकता है। अफ्रीकी बाजार में निर्यात करने की सुविधा भी उपलब्ध है। दुबई से दुनिया के अलग-अलग बाजारों में आए बदलावों के बारे में जान सकते हैं। इसके अलावा अगर उत्पाद को सीधे दुबई के बाजार में बेचा जाता है तो मुनाफा बढ़ जाता है। व्यापार करने के लिए रुपये कम ब्याज दरों पर उपलब्ध हैं। खासतौर पर दुबई में भी वहां कारोबारियों के कॉन्टैक्ट सीक्रेसी बनाए रखने के लिए कंपनियां शुरू की जाती हैं और यह एक तरह से अच्छी बात कही जा सकती है।

See also  વીર નર્મદ યુનિ.ના વિદ્યાર્થીઓ અને પ્રોફેસરે બનાવ્યું ખાઈ શકાય તેવું પ્લાસ્ટિક

दुबई में गोल्डन वीजा लेकर बिजनेस किया जा सकता है

दुबई एक व्यापारिक केंद्र है। दुबई में व्यवसाय करने और कंपनियां शुरू करने के लिए विभिन्न लाइसेंसों की आवश्यकता होती है। कपड़ा, हीरा और अन्य क्षेत्रों में सेवाओं के लिए भी लाइसेंस की आवश्यकता होती है। व्यवसायी वहां जो भी सामान या उत्पाद बेचना चाहते हैं उसे बेच सकते हैं। छह उत्पादों के व्यापार के लिए लाइसेंस की आवश्यकता होती है। कुछ शुल्क देकर सातवें उत्पाद की ट्रेडिंग की जा सकती है। दुबई में गोल्डन वीजा लेकर बिजनेस किया जा सकता है।

सेमिनार में उपस्थित रहे उद्यमी

संगोष्ठी में चैंबर ऑफ कॉमर्स के मानद मंत्री भावेश टेलर ने स्वागत भाषण दिया। चेंबर के संयोजक एवं पूर्व अध्यक्ष डॉ. कार्यक्रम की रूपरेखा अजय भट्टाचार्य ने दी। संगोष्ठी का संचालन चैंबर की एक्सपोर्ट प्रमोशन एंड फॉरेन ट्रेड कमेटी के सलाहकार देवकिशन मंघानी ने किया। चैंबर के वाणिज्य दूतावास संपर्क/अंतर्राष्ट्रीय व्यापार प्रतिनिधिमंडल समिति के अध्यक्ष हर्षल भगत ने स्पीकर का परिचय दिया। सेमिनार में प्रश्नोत्तर सत्र का संचालन सीए तुहिन भट्टाचार्य ने किया। अंत में चैंबर के मानद कोषाध्यक्ष भावेश गढ़िया ने सर्वे का आभार व्यक्त कर संगोष्ठी का समापन किया।

See also  सूरत : कोट क्षेत्र में अवैध दबाव हटाने और अशांत धारा  को लेकर लोग विधायक के घर पहुंचे | सूरत

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read