HomeNewsअहमदाबाद : 63 वर्षीय मयंक वैद्य और रमेश मारडिया के हौंसले बुलंद,...

अहमदाबाद : 63 वर्षीय मयंक वैद्य और रमेश मारडिया के हौंसले बुलंद, जानें इनके बारे में 


 कोई वरिष्ठ नागरिक युवा हृदय और उत्साह के साथ रहता है, तो कहा जाता है कि उसके लिए उम्र का बढ़ना एक आँकड़ा से अधिक कुछ नहीं है। हालाँकि, दो वयस्क हैं जिनका आँकड़ों से संबंध है।  मूल रूप से जूनागढ़ के रहने वाले और अब वड़ोदरा में बसे 62 वर्षीय मयंकभाई वैद्य और उनके करीबी 63 वर्षीय रमेशभाई मारडिया इस उम्र में भी लंबी दूरी साइकिल से तय कर रहे हैं और उनके किलोमीटर का आंकड़ा भी बढ़ती उम्र से अधिक रखने का लक्ष्य रखा है और पार भी कर रहे हैं।  

मयंकभाई और रमेशभाई दोनों सेवानिवृत्त बैंकर हैं

See also  अहमदाबाद  :  अवैध रुप से चल रहे बूचड़खानों को लेकर हाईकोर्ट सख्त

ये दोनों 62-63 साल के युवा दिल के बुजुर्ग साबरमती गांधी आश्रम से नई दिल्ली स्थित गांधी समाधि स्थल राजघाट तक साइकिल से निकल पड़े हैं। वे प्रतिदिन औसतन 70-80′ साइकिल चलाकार 1000 किलोमीटर की दूरी तय करेंगे। वे इस उम्र में केवल रोमांच के लिए यात्रा करने का उद्देश्य जोड़ते हैं। चूंकि गांधीजी केंद्र में हैं, इसलिए उन्होंने साइकिल पर ‘स्वच्छ भारत’, ‘स्वस्थ भारत’ का बैनर लगा दिया है। मयंकभाई और रमेशभाई दोनों सेवानिवृत्त बैंकर हैं और उनके पास ऊर्जा का असाधारण भंडार है। 

वड़ोदरा से जूनागढ़ व्यसन मुक्ति मिशन और चेन्नई से पांडिचेरी तक साइकिल चला चुके हैं

See also  अहमदाबाद :  युवक कोरोना पॉजिटिव, अस्पताल में ऑक्सीजन पर रखा गया

वे पहले वड़ोदरा से जूनागढ़ व्यसन मुक्ति मिशन और चेन्नई से पांडिचेरी तक साइकिल चला चुके हैं। उनके साहसिक कार्य, मिशन और भीषण चढ़ाई की इस तरह से सराहना की जानी चाहिए। इस तरह की साइकिल यात्रा के दौरान वे किसी शाही होटल या किसी परिचित के घर आराम नहीं करते हैं, बल्कि  किसी मंदिर, सराय या बुनियादी सुविधाओं वाले होटल में रात भर रुकते हैं। मयंकभाई वैद्य और रमेशभाई मरडिया ने संदेश दिया कि युवावस्था से ही सभी को व्यायाम, सैर और साइकिल चलाना शुरू कर देना चाहिए।  वे रोजाना 70-80 किलोमीटर साइकिल चलाते हैं

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read